July 24, 2019

–सिर्फ सीखो मत , अनुभव करो–

motivation vs inspiration | मोटिवेशन बनाम इंस्पिरेशन

motivation vs inspiration |  मोटिवेशन बनाम इंस्पिरेशन


motivation vs inspiration |  मोटिवेशन बनाम इंस्पिरेशन

(मोटिवेशन)  और  inspiratrion(इंस्पिरेशन) में क्या  अंतर है ? 

लोग कहते हैं की motivation (मोटिवेशन) और inspiration (इंस्पिरेशन) दोनों लगभग एक ही है |  पर नही ये बिलकुल गलत है ये दोनों चीज़े बिलकुल अलग है |
Motivation (मोटिवेशन) ये शब्द सबको बहोत पसंद है |
 और inspiration (इंस्पिरेशन) यानि क्या ये ज्यादा  किसीको पता ही नहीं | inspiration (इंस्पिरेशन) का सही मतलब मेरे बहोत से  दोस्तों को पता ही नहीं और मेरे दोस्त हो के आपको ये पता ना हो ये मुझे अच्छा नहीं लगेगा | 


 इसलिए आज हम  motivation (मोटिवेशन) और inspiration (इंस्पिरेशन) के बारे में  बात करेंगे और इन दोनों के बारे में जानेंगे  ठीक है |
जैसा की मैंने कहा   motivation (मोटिवेशन) ये word (शब्द)  सबको बहोत पसंद है | इसे हम बस एक शब्द नहीं कह सकते क्युकी ये शब्द नहीं बल्कि एक भावना है जिससे हमारे अंदर एक ऊर्जा निर्माण होती है जो भी काम आपको करना है उसके लिये | और ये अच्छी बात है |  



 क्यों है ना हा  बिलकुल अच्छी  बात है अगर  motivation(मोटिवेशन) से कोई भी आदमी अपना काम जो भी वो करना चाहता हो | वो उसमे पूरी  ऊर्जा लगा दे और वो काम करे  तो ये अच्छी बात है |


पर मोटिवेशन ये बहोत   लिमिटेड समय के लिए होता है और  कुछ ही समयँ के लिए हमे  ऊर्जा का अनुभव होता है और उसके बाद वापस से पहले जैसे |

और ये कोई ऊर्जा नहीं है बस एक  feeling(अनुभूति) है जो कुछ देर के लिए हम महसूस करते हैं |  
आपने एक मोटिवेशनल वीडियो देखा | और फिर तब आपको अंदर बहोत ज्यादा  जूनून आ गया या फिर आपने कहा की बस अब तो ये करना ही है | और कुछ ही समय बाद सब पहले जैसा हो गया |
 ये सबने अनुभव किया होगा कोई वीडियो देख ली सुबह और फिर तब तो बहोत ऊर्जा मिल गयी अब तो करना ही है | 

 ये खुद से बोल दिया पर अब दोपहर तक फिर से उदास हो गए और अब ऊर्जा ही नहीं शरीर में  ऐसा लगने लगेगा | और ऊर्जा पाने  के लिए  फिर से वीडियो देखनी पड़ेगी


और एक interesting(दिलचस्प) बात बताऊ  कुछ लोग तो           मोटिवेशनल  वीडियोस बस देखते ही रहते है एक देखा उसे बंद किया उसके बाद और एक | ऐसे बस देखते रहते है क्युकी ऐसे वीडियो देखने के बाद हमरा mind (दिमाग) खुश होता है |
मोटिवेशन ये एक टेम्पररी फीलिंग  है  | थोडी  देर के लिए हमारे दिमाग में ऊर्जा की     feeling(अनुभूति) होती   है इसे हम मोटिवेशन कहते है | 

Motivation को हम  एक तरह का नशा भी कह सकते है | जैसे कोई भी नशा थोड़ी देर के लिए अच्छी  feeling (अनुभूति)  देती है और फिर थोड़ी देर बाद वो नशा उतर ते  ही |  फिर  से वो फीलिंग पाने के लिए नशा करना पड़ता है  (😇😊 मै  नशा नहीं करता ये बस common(कॉमन)बाते है जो सभी को पता है ) 



वैसे ही मोटिवेशन भी थोड़ी  time(देर)  के लिए अच्छी  feeling(अनुभूति) देता है और फिर वो अनुभूति  जाने के बाद फिर से कोई भी मोटिवेशनल कंटेंट देखना या पढ़ना पढता है |
मोटिवेशन आपको किसी भी काम को करने के लिए मजबूर करता  है और इसी वजह से हम कोई भी काम ज्यादा देर तक नहीं कर पाते   |
| और मुझे ये लगता है कि मोटिवेशन  वो आलसी लोगो के लिए है जिनको कुछ नहीं करना पर फिर भीं मोटिवेशन लेके जबरदस्ती अपने दिमाग को खुश  करते हैं |

   Inspiration | प्रेरणा स्त्रोत



         
आपको कई लोगो ने इंस्पिरेशन के बारे  में बताया  होगा लेकिन मै  आपको बिलकुल सही और बिलकुल आसान भाषा में समझाऊंगा |
इंस्पिरेशन वो है जिसे हम अंदर से महसूस करते मतलब अगर किसी के भी पास इंस्पिरेशन है तो उसे उसका ड्रीम या उसका काम करने के लिए और कुछ नहीं चाहिए | वो कुछ भी करके उसे  पूरा कर ही लेगा |
इंस्पिरेशन पूरी ज़िन्दगी तक रहती है ये कभी ख़तम नहीं होती |
और   इंस्पिरेशन  जो है वो सबके लिए अलग अलग हो  सकते है | सब  लोग एक ही चीज़ से इंस्पायर्ड हो ये जरुरी नहीं |
इंस्पिरेशन जो है वो कीसीको मजबूर नहीं करती कुछ करने के लिए | जबकि इसके आलावा वहीं व्यक्ति  वो काम बिना किसी मायुसी  के हसते  खेलते  कर लेगा | यानि उसे यहाँ कुछ भी जबरदस्ती करने की जरुरत ही नहीं वो खुद ही उस काम को करना चाहेगा | 


इंस्पिरेशन कहा से मिलती है
ये समझना बहोत जरूरी है की इंस्पिरेशन कहा से आती है |
इंस्पिरेशन अपने अंदर से ही आती है | इसके लिए  कुछ भीं देखने की या पढ़ने की जरुरत नहीं है आपको बस समझने की जरूरत है |
आप अगर कोई भी चीज़ के बारे में जान जाओ और समझ जाओ तो उस काम को करने के लिए इंस्पायर्ड रहते हो
आपको कोई काम पसंद आता है तो उसे करने के लिए आपको कोई मोटिवेशन की जरूरत नहीं पड़ती पर जब वो काम  आपके हिसाब से नहीं होता  | तो आप उसे सही करने के लिए मोटिवेशन ढूंढ़ते  है  | बहोत  लोगो ने ये अनुभव किया होगा है ना | 



तो यही पे आती है समझने की बात अगर आप उस काम को करने का सही तरीका जान गए और अच्छे  से समझ गए तो आपको किसी मोटिवेशन की जरूरत ही नहीं पड़ेगी | क्युकी अगर आप गिर भी गए तो आपको पता होगा फिर उठ के चलना कैसे  है
इंस्पिरेशन एक अंदरूनी भावना है जो हमें अपने काम के प्रति जूनून और ऊर्जा प्रदान करती है वो भी पुरे जिंदगी भर | 


तो  आप अब मोटिवेशन  और इंस्पिरेशन  के बारे में  समझ गए होंगे | ये दोनों है क्या | इनमे क्या अंतर है |और हमे क्या चाहिए मोटिवेशन या इंस्पिरेशन तो अगर आपको कोई सवाल पूछना ,किसी भी टॉपिक पे आर्टिकल चाहिए  हो या अगर कोई भी परेशानी हो तो कमेंट बॉक्स में बता सकते हो  |  या फिर ईमेल करसकते हो | मैं    जरूर आपकी मदत करूंगा  |