are you begging | क्या तुम भीख मांग रहे हो ????

are you begging | क्या तुम भीख मांग रहे हो ???

में जो आपको आज बताने वाला हु शायद उससे आपको गुस्सा आ सकता है पर ये बहोत जरुरी है बताना की आप क्या कर रहे हो। तो समजते है हम क्या और किसलिए ये सब कर रहे है। 

are you begging | क्या तुम भीख मांग रहे हो ????

तो हमारा शीर्षक है की हम भिक तो नहीं मांग रहे। भिकारी ये शब्द बहोत लोगो के लिए शर्मनाक होता है और कोई अगर इन्हे ऐसा बोलदे तो उन्हें अपमानस्पद लगता है।  भिकारी वही  होता है जो दुसरो के आगे हात  फैलाये और अपना पे

पर जिस चीज़ के वजह आप को इतना गुस्सा आता है और जो चीज़ आपको सही नहीं लगती। पर अनजाने में  कही वो चीज़ आप ही तो  नहीं कर रहे | हा में सही कह रहा हु। शायद आप भी  भिकारी  तो नहीं। अब कई लोगो को गुस्सा आया होगा की ये हमें भिकारी क्यों कह रट भरे | और इन्हे हम बहोत कुछ बोलते है जैसे की  “अरे इनकी तो आदत हो गयी है मेहनत ना  करने की ”  और और भी  बहोत कुछ।  और हम इनसे गुस्से से पेश आते है। 

हा है।   सबको नहीं कह रहा हु जब आप पूरा पढ़ेंगे तो आपको समझेगा की कोण भिकारी है।

तो आपमें से कई लोग २० साल या उसके ऊपर के उम्र के होंगे। और आप शायद पढाई कर रहे होंगे या आपकी पढाई  ख़तम हो गयी  होगी। और आप अभी भी अपने माता पिता से आपके खर्चे के लिए पैसे मांगते होंगे जबकि आपकी उम्र हो गयी है की अब आप अपने माता पिता का सहारा बनो।  पर आप अभी भी अपने माता पीता  का बोज ही हो। खुदके खर्चे के लिए भी आपको माता पिता को पैसे मांगने पड़ते है|

अपने माता पिता नहीं पर कम से कम अपना  खर्च उठाने में आप समर्थ होने चाहिए। क्युकी इससे उनका बोजा कम हो जायेगा। क्युकी आपको  खर्चो की वजह से वे खुदके सपनो का त्याग कर देते है। पर आपको ये समझना होगा की अब आप बड़े हो गए हो आपको अपना  खर्च खुद उठाना चाहिये। न की माता पिता  को मांगना चाहिए।

और इस वजह से आपको कमाई करने की आदत हो जाएगी। आपको समझ में आ जायेगा की पैसे कैसे और कहा खर्च करने है जिसकी वजह से आप पैसो  की कदर करना सीखोगे। जब खुद पैसे कमाते हो तो आपको समझता है की हम अपने पैसो से बस जरूरते पूरी कर सकते है शोक नहीं। 

शायद आप कहोगे की ये तो माँ बाप का कर्त्तव्य है। हा है  बिलकुल  है आपको एक अच्छा जीवन प्रदान करना उनकी जिम्मेदारी है। पर कब तक ?
उन्होंने आपको हर तरह से  विकसित  करने में  अपना पूरा योगदान दिया है आपके हर शोक और जरूरते पूरी की है। पर अब आप बड़े  गए हो अब  आपको खुद का ध्यान खुद  रखना होगा। आप अब पैसो के लिए उनपे निर्भर नहीं हो सकते। 

अब आपको अपनी  जिम्मेदारी को समझना होगा और आपको खुदका भार खुद ही उठाना पड़ेगा। तभी आप अपनी जिंदगी को समझेंगे।

आपको अपने घर पे तो कही लोग बोलते होंगे की कुछ करलो पर आप कभी ध्यान नहीं देते लेकिन उनको लगता है की हम अपने पैरो पे जल्द से जल्द खड़े हो जाये। मैंने कई लोगो को देखा जो  कुछ नहीं करते और बस अपने  माँ बाप  भरोसे होते है। कोई भी शोक अपने माँ बाप के पैसो से पुरे करते  है और दोस्तों के  सामने बहोत बढ़ाई करते है | पर ये तो बहोत शर्म की बात है जो हम नहीं समजते अगर आप खुदके दम पे कुछ करो तो लोग आपको बहोत इज्जत देते है।  पर  आप अगर अपने माँ बाप के पैसो पे कितना भी कुछ करो आपको वो  इज्जत  नहीं मिल पायेगी।

तो सोचो  “कही आप  भिक  तो नहीं मांग रहे”  हा बिलकुल। ये  भिक मांगना ही हुआ आप अपना जीवन चलाने के  माँ बाप  से पैसे मांगते है जबकि आपको अपना खर्च खुद उठाना चाहिए। तो अगर आप भी ऐसा करते हो तो आप भी “कही भिक तो नहीं मांग रहे”

तो इसके बारे में सोचो और समझो की हमें क्या करना चाहिए क्युकी यही वो बाते होती है जिसकी वजह से हम जिंदगी में कुछ बड़ा करते है।

आपको ये आर्टिकल कैसा लगा ये  कमेंट करके जरूर बताये। और अगर आपको कोई आईडिया या कहानी शेयर करनी हो तो आप हमें ईमेल करे। और आपको कुछ सिखने या समझने को मिला हो तो शेयर जरूर करे। धन्यवाद 

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »