NICK VUJICIC Biography | निक वुजिसिक प्रेरणादायक जीवनी

NICK VUJICIC Biography

NICK VUJICIC Motivational Biography:आज जिस वयक्ति के बारे में। आज में आपको बताने जा रहा हु उसके वजह से आप अपनी जिंदगी से जीतनी भी शिकायते करते हो वो करना बिलकुल बंद कर कर दोगे।

जरा सोचिये आप सुभह उठते हो और रोज की तरह अपने पलंग से उठने की कोशिश करते हो तभी आप देखते हो की आपके हाट और पैर है ही नहीं। कल्पना करने में भी कितना डर लगता है। क्यों है ना !

पर क्या आपको पता है की एक व्यक्ति है जो अपने जन्म से ही बिना हाट और पैरो के जी रहा है। उसका नाम है निक वुजिसिक जिसके के बारे में आज में आपको बताने वाला हु। इस आदमी की कहानी आपको सोचने पे मजबूर कर देगी और आपका जिंदगी जीने का नज़रिया बदल देगी।

NICK VUJICIC Motivational Biography in hindi

 

निक वुजिसिक का जन्म १९८२ को  मेलबर्न में हुआ जो की ऑस्ट्रेलिया में है। उनका जन्म बिना हात  और पैरो के हुआ। उनके हात और पैर पूरी तरह से विकसित नहीं हुए थे। और जब नर्स ने उनको ये बताया तो उनकी माँ ने उन्हें देखने तक से इनकार कर दिया पर बाद मे  उनके पति ने उन्हें समझाया और उन्होंने ये “भगवान की योजना है” ऐसा समझकर  निक को अपना लिया।

NICK VUJICIC  Biography

बादमे निक ने अपने पैरो पे शस्त्र क्रिया करके उंगलियों को अलग कर लिया जिसका उपयोग वो उनकी व्हील चेयर,मोबाइल फ़ोन और कंप्यूटर चलाने में करते है।  जब वो १० साल के थे तो उन्होंने आत्महत्या करने की कोशिश की थी। क्योकि तब उनके मन में  खुद के अस्तित्व के बारे में सवाल उठना  चालू हो गए थे। जब वो स्कूल जाते तो बाकि के विद्यार्थी उनका मजाक उड़ाते उसके कारन उनका स्कूल में कभी कोई दोस्त नहीं बना।

जब वो जवान हुए तो तभी कई लोगो ने उसका मजाक बनाया और इस सबसे वो  बहुत दुखी हो जाते और फिर उनकी माँ  ने उनको समाचार पत्र दिखाया
 जिसमे एक १७ साल के लड़के के बारे में लिखा था की कैसे वो अपने विकलांग होने पर भी एक अच्छा जीवन जी रहा  है। और उस लेख का उनपे बहोत गहरा असर हुआ जिसके बाद उन्होंने अपनी शिक्षा जारी रखी। वो एक  प्रार्थना समूह में शामिल हो गए थे और वह पे उन्होंने अलग अलग विषयो पर बातचीत करना शुरू कर दिया। और आगे चल के निक  ने ग्रिफिथ विश्वविद्यालय से 21 साल की उम्र में बैचलर ऑफ कॉमर्स की डिग्री के साथ अकाउंटेंसी और वित्तीय योजना में एक डबल प्रमुखता हासिल की।

9 मार्च 2002 में, वह कैलिफोर्निया चले गए। आगेगी की जिंदगी जीने के लिए |

और उसके बाद उन्होंने २००५ में लाइफ विदाउट लिम्ब्स की स्थापना की जो की एक अंतरराष्ट्रीय गैर-लाभकारी संगठन है। और २००७ में उन्होंने एटिट्यूड एट अल्टीट्यूड नाम की कंपनी की स्थापना की जिसका काम हैं  दुनिया भर में अलग अलग कार्यक्रम आयोजित कर लोगो को ज़िन्दगी जीने का तरीका सीखाना

उनका एक वेब पेज जिसका नाम “स्टेटमेंट ऑफ़ फेथ” है जहा पे उन्होंने ईसाई धर्म का पालन करते है उसका वर्णन किया है। उनका कहना है की आज जो भी है भगवान की वजह से ही है। निक एक धार्मिक व्यक्ति है जो भगवान को बहोत मानते है।

 

उनको हमेशा से ही लगता था की वो किसीको प्यार नहीं दे सकते।और उनको भी कोई प्यार नहीं करेगा और बचपन से ही उन्होनी अपने आप को समझा लिया था की उनसे कोई प्यार नहीं करना चाहेगा। पर वो २००८ में गलत साबित हुए जब उनकी मुलाकात काना मियाहारा से टेक्सास, में डलास के पास हुइ काना निक के साथ बहोत  से रहती थी उनको उनके विकलांग होने से कोई दिख्खत नहीं थी और वो उनको बहोत प्यार भी करती थी और आगे चल के  २०१२ में दोन्होने  शादी भी कर ली। आज निक और काना को ४ बच्चे भी है और वो सब कैलिफोर्निया में  रहते है।

इस बिच निक ने एक शार्ट मूवी में भी अभिनय किया और उसके लिए उन्हें “मेथ फेस्ट इंडिपेंडेंट फिल्म फेस्टिवल ” में  सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के पुरस्कार से  सम्मानित किया गया।

इसके बाद २०११ में निक ने  एटिट्यूड एटिट्यूड के जरिये  एकल और म्यूजिक वीडियो जारी किया, जिसको  नीच वुजिसिस ने “समथिंग मोर” का नाम दिया था

निक ने अपने  में कई उतार चढाव देखे है पर जब से उन्होंने ने भगवान में आस्था रखना शुरू किया और उन्हें लगा की भगवान जो भी करते है वो अच्छे के लिए ही होता है तो उन्होंने भगवान को अपना प्रेरणा स्त्रोत बनाया और जिंदगी में आगे बढ़ते गए।

आज निक स्विमिंग करते है उन्हें देखकर कोई अच्छा स्वीमर भी शरमा  जाये इतनी अच्छी स्विमिंग वो करते है।  इसके अलावा वो पेंटिंग ,फिशिंग और सर्फिंग भी करते है। उन्होंने  प्याराग्लाइडिंग और पंजी जंपिंग भी की है।  वो  बेहत अच्छे उदाहर है  किसी भी इंसान के लिए। आज निक वुजेसिक दुनिया के सबसे बड़े मोटिवेशनल स्पीकर  में आते है और लोगो को जिंदगी जीने का तरीका बताते है और समझाते है।

आपको nick vujicic biography ये आर्टिकल कैसा लगा comment करके जरूर बताये और अगर और कोई विषय या कहानी आप हमें बताना चाहते हो तो हमें ईमेल करे। हम आपके विषय और कहानी को औरो के साथ जरूर बाटेंगे। 

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »