4 ways to build self-discipline in hindi | आत्म-अनुशासन बनाने के 4 तरीके

मैंने आपसे कई बार कहा है की मोटिवेशन से आपके ज़िन्दगी में कोई बदलाव नहीं आएगा आपको प्रेरणा और अनुशासन जरुरी है अपने ज़िन्दगी बदलने के लिए।

 must read motivation vs inspiration |  मोटिवेशन बनाम इंस्पिरेशन

और आज में आपको अनुशासन के बारे में बताऊंगा क्यों ये जरुरी है और कैसे हम अनुशासन निर्माण कर सकते है जिससे हमें अपने ज़िन्दगी में फायदा होगा। 

आजकल सब अनुशासन की बात तो करते है पर समझाता कोई नहीं और इस वजह से कई लोग अनुशासन  को बोहोत मुश्किल और उबाऊ यानि की boring  समजते है।  पर ये बोहत ही अच्छी चीज़ है और ये मुश्किल भी नहीं है। अनुशासन का मतलब होता है। और आज में आपको बताऊंगा आत्म-अनुशासन बनाने के 4 तरीके जिससे आप भी एक अनुशाषित व्यक्ति बन जाओगे और सफलता पाओगे।

१. start small | छोटी शुरवात करो 

4 ways to build self-discipline in hindi  | आत्म-अनुशासन बनाने के 4 तरीके
4 ways to build self-discipline in Hindi  | आत्म-अनुशासन बनाने के 4 तरीके

कई लोग मोटिवेशन वीडियो देखने के बाद या किताब पढ़ने के बाद एकदम से उत्साहित हो जाते है और उनको लगता अपनी पूरी ज़िन्दगी एक चुटकी में बदला देंगे। एकदम से इतनी ऊर्जा उनमे भर जाती है की वो सोचते है की अब तो में रोज पढाई करूँगा या रोज जिम जाऊंगा पर असली में जब वो पढ़ने बैठते है या जिम जाते है तो वो थक जाते है और ज्यादा देर तक काम नहीं कर पाते क्योकि उन्होंने शुरवात में ही बड़े लक्ष्य निर्धारित कर दिए।

हमें कभी भी छोटी चीज़ो से ही शुरवात करनी चाहिए और फिर उन चीज़ो को धीरे धीरे बड़ा करना चाहिए

२. wake up early in the morning | सुबह जल्दी उठना चाहिए 

                           wake up early in the morning | सुबह जल्दी उठना चाहिए 

ये एक बहोत असरदार और ताकतवर आदत है जीवन में सफलता पाने के लिए आपको हर रोज जल्दी उठना चाहिए और कुछ समय खुद के साथ बिताना चाहिए।

must read: 5 सुबह की आदतें अपना जीवन बदलने के लिए 

ये एक बहोत अच्छा और असरदार तरीका है खुदको और भी ज्यादा अनुशषित बनाने का। जब आप ये सुबह जल्दी उठने लग जाओ तो आप खुदमे बहोत ज्यादा परिवर्तन महसूस करोगे। अगर आप सुबह का कुछ समय खुदके के साथ बिताते हो तो आपका दिन भी बहोत अच्छा गुजरता है और आपको जीवन में सफलता मिलनी भी शुरू हो जाती हैं।

३. hard lines | कठोर रेखाएँ

                             hard lines | कठोर रेखाएँ

कठोर रेखाओ का मतलब होता है की आप खुदके लिए कोई नियम बना रहे हो और ये कई सफल व्यक्ति करते है ये वो नियम है जो आपने खुदके लिए बनाए है किसी और ने आपके लिए नहीं जैसे घरवाले , स्कूल या सरकार ने नहीं।  तो आप खुदके लिए कोई भी कठोर रेखाएं तय कर सकते है। या तो में आपके लिए  एक तरीका बताता हु

आप एक बोर्ड लेके आये और उसपे अपने दिन भर के काम लिख लिजीये जो आपको करने है और फिर उसे किसी भी हालत में उसी दिन पूरा कीजिये।  और है कभी भी कठोर रेखाएं बहोत बड़ी न रखे उन्हें हमेशा छोटी रखे क्योकि जैसे की मैंने कहा हमें हमेशा शुरवात छोटी करनी चाहिए तभी वो बड़ी बन पायेगी तो हमेशा शुरवात में  ऐसे लक्ष्य  निर्धारित करे।

जो आप आसानी से कर सकते है तभी आप इस तरीके का इस्तेमाल कर सकोग। खुदको धकलते(push) करते  रहे और अगर आप कभी अगर अपनी कठोर रेखाओ को  करने में असफल रहते हो तो उदास ना हो जाओ क्योकि हमें कोई भी जरुरी काम आ सकता है जिससे पूरा करना महत्वपूर्ण हो। पर कोशिश करे की आप कर लो जो आपने लिखा है।

४. it is your responsibility | यह आपकी जिम्मेदारी है 

                                    it is your responsibility | यह आपकी जिम्मेदारी है 

कई लोग अपने अनुशासन के लिए  और को जिम्मेदार ठहराते है। मम्मी ने सुबह नहीं उठाया इस लिए में नहीं उठ सका या मेरे साथ कोई है ही नहीं  जिम जाने के लिये। आपकी ज़िन्दगी की जिम्मेदारी आपको खुद को लेनी होगी नहीं तो आप कभी सफल नहीं हो पाओगे आप खुदके लिये किसीको जिम्मेदार नहीं ठहरा सकते अगर आप अपनी जिंदगी से खुश नहीं हो और कुछ बदलना चाहते हो तो और भी ज्यादा अनुशाषित बनिए तभी आप कुछ भी बदल पाओगे

तो आपको ये आर्टिकल कैसा लगा और ऐसी कोनसी चीज़े है जो जरुरी है अनुशासित होने के लिएन ये जरूर बताये। अगर आपके कोई सवाल या सुझाव है तो जरूर हमें ईमेल करे। हमसे जुड़ने के लिए subscribe  करे। धन्यवाद
  

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *