bad habit and good habit | how to get rid of bad habit

bad habit and good habit: जब में छोटा था तभी से मुझे क्रिकेट से बहोत ज्यादा लगाव था। और जब मुझे मेरे स्कूल के तरफ से सबसे पहले खेलने को मिला तो मै बहोत खुश था। पर मैंने जब खेलना शुरू किया था तो मुझे ज्यादा कुछ नहीं आता था। और मुझे जब भी बैटिंग और बॉलिंग करनी पड़ती तो मुझे पहले हर एक चीज़ के बारे में सोचना पड़ता था की कैसे करना है।

पर जैसे जैसे में खेलता गया तो मुझे कुछ याद रखने की जरुरत नहीं पड़ी। क्योकि अब मुझे आदत हो गयी थी और अब मै आराम से खेलता हु मुझे कुछ करने की जरुरत नहीं पड़ती। मैरे पैरे और हात अपने आप ही काम करते है। जैसे बॉल आता है तो मेरे पैरे अपने आप बॉल की तरह जाते है और हात bat को घुमाते है। पर ऐसा क्यों है? bad habit and good habit

जब हम कुछ नई चीज सीखना स्टार्ट करते हैं या कोई काम पहली बार करते हैं। तब हमारे दिमाग को conciousely सोच समझ के और effort लगा कर वो काम करना पड़ता है । पर जैसे जैसे हम वही काम बार बार repeat करने लगते हैं तब हमारा दिमाग उस काम का एक पैटर्न बना के दिमाग के अंदर स्टोर कर लेता है। जिसके बाद उस काम को करने के लिए हमें बिलकुल सोचना नहीं पड़ता । क्योंकि अब वो काम हमारा subconcious mind करने लगता है और ये कुछ नहीं बस हमारी हैबिट बन जाती है।

bad habit and good habit | habit meaning in hindi

example- जैसे चलते हुए कोई important बात सोचते हुए अपने घर तक पहुंच जाना बिना रास्तों पर ध्यान दिए । सुबह उठ के सीधे बाथरूम जाना और फिर ब्रश करने लगना । हमारा ब्रेन ऐसा करता है या habits बनाता है। ताकि दिमाग दूसरा important काम या कोई नया काम करने के लिए use हो सके । आदत हमारे दिमाग की काफी एनर्जी बचाती है क्योंकि इसकी वजह से दिमाग को repeat करने वाले कामो पर efort लगाने की जरूरत नहीं पड़ती । अब ये सब हुई हैबिट की अच्छी बातें । bad habit and good habit

पर एक बुरी बात ये है कि हमारा दिमाग अच्छी और बुरी हैबिट के बीच में डिफरेंस नहीं कर पाता । उसे तो बस habits बनाकर अपने eforts बचाने होते हैं और ये बात हमारे लिए काफी problem create करती है। क्योकि कि इंसान ज्यादातर बुरी चीजें ही बार बार करता है ना कि अच्छी चीजें ।

जिसकी वजह से ज्यादातर हमारी बस बुरी आदतें ही बनती रहती है । और जैसे की में हमेशा कहता हु की habits आपके success और failure के बीच एक बहुत बड़ा reason है । इसीलिए हमारे लिए अपनी उन बुरी habit को खत्म करना और अच्छी habits बनाना बहुत जरूरी है ।

अगर आपको अपनी बुरी आदतें खत्म करनी है या दूसरी नयी अच्छी आदते बनानी है तो सबसे पहले आपको ये पता होना चाहिए की आदते बनती कैसे हैं तो आदते बनते है तीन step की process में। bad habit and good habit

१. trigger

जो आपको बुरे या अच्छे काम करने के लिए उकसाता है जिसकी वजह से आपका मन करने लगता है कि आप वो काम करो । example ज्यातर लोग शराब तब पीना शुरू करते है जब उनके दोस्त उन्हें पिने के लिए कहते है। क्योंकि दोस्तों का impact हमारी लाइफ में बहुत ज्यादा होता है। इसीलिए ज्यादातर लोग मना करने के बाद भी टाइमपास समझते है और जब दिल करेगा तब छोड़ दूंगा ये सोचकर पीना शुरू कर देते हैं । starting में तो वही दोस्त पिने के लिए ले जाते है हैं पर फिर कुछ समय बाद वो खुद ही उस दोस्त को लेकर पीने जाने लगते हैं । अब वो friend उसका ट्रिगर बन जाता है जिसे देखते ही उसका पीने का दिल करने लगता है ।

trigger बहुत अलग अलग तरीके के हो सकते हैं लेकिन सारे triggers ५ category में ही आते है ।

1. place

कोई एक जगह जो आपको बुरे या अच्छे काम करने के लिए ट्रिगर करती है ।

bad habit and good habit

2.time

कोई specific टाइम ।

3. imotions

कुछ इमोशन्स जैसे sad, happy या bore होना ।

4. because of someone else

दूसरों की वजह से जैसे कि दोस्त के मिलने के बाद या फिर टीवी में देखने के बाद दिल करना ।

5. action

कोई action लेने के फौरन बाद। जैसे की खाना खाने के बाद हाथ धोना।

bad habit and good habit

2.routine

ट्रिगर मिलने के बाद लोग अगली step पर जाते हैं उसे कहते हैं रूटीन। रूटीन काफी छोटे या काफी बड़े भी हो सकते हैं । जैसे अपने फ्रेंड्स से मिलने के बाद आपका चलके किसी शॉप में जाना वहां शराब खरीदना और फिर किसी एक जगह पर जाकर पीना ये पूरे एक्शन रूटीन में आते हैं ।

bad habit and good habit

3.reward

reward सबसे मेन स्टेप होता है जिसकी वजह से habits असलियत में बनती है । जैसे लोग शराब पहली बार पिते है तब उन्हें अल्कोहल का reward मिलता है । शराब में मौजूद alcohol ही उनके लिए रिवॉर्ड होता है। जो उन्हें अच्छा और रिलैक्स फील कराता है ।

ऐसी हर बुरी और अच्छी हैबिट तीन तीन phase में ही बनती है और फिर ये जितनी ज्यादा बार repeat होता जाता है। उतना ज्यादा उन लोगों वो हैबिट स्ट्रॉन्ग होती जाती है । फिर चाहे वो शराब पीना हो या ज्यादा खाना खाना हो या कोई भी अच्छा या बुरा काम हो ।

how to get rid of bad habit

तो हम अपनी इन आदतों को खतम कैसे करें । सबसे पहली बात लोगों को अपनी हैबिट को अचानक खतम करना बहुत ज्यादा मुश्किल होता है। क्योंकि हैबिट का पैटर्न हमारे दिमाग में अंदर तक स्टोर रहता है। जो इतना strong होता है कि हमारा इसे पूरी तरह से खत्म करना लगभग नामुमकिन है । इसलिए आपने देखा होगा लोग अचानक जब हैबिट को खत्म करने की कोशिश करते हैं तो वो कुछ दिन तक अपने आपको कंट्रोल में रखते हैं । पर उनको फिर एक स्ट्रॉन्ग trigger मिलने के बाद उनकी वो पुरानी हैबिट फिर वापस आ जाती है।

इसीलिए बेहतर यही है की अपनी बुराइयां बिलकुल खतम करने की कोशिश ना करें। बल्कि उन बुरी habits को पूरी तरह से किसी दूसरे अच्छी हैबिट से रिप्लेस कर दें । अगर एक आदमी को रोज रोज डोनट खाने की आदत होती है तो रोज उस कैलरी से भरे डोनट खाने की वजह से उसका वेट बढ़ता जाता है। जिसे वो बहुत अनहेल्दी हो जायेगा। तब मानलो उसने dicide किया कि वो कैसे भी करके अपनी इस बुरी हैबिट को खतम करेगा ।

तो सबसे पहले उसने पता किया कि उसकी इस हैबिट के तीन स्टेप्स है क्या? अच्छे से समझने के बाद उसे पता चला कि हर दिन उसे तीन से साढ़े तीन के बीच उसे डोनट खाने का बहुत ज्यादा मन करता है और ये टाइम ही उसके हैबिट का ट्रिगर है। जिसके बाद उसे रूटीन पता करने में ज्यादा टाइम नहीं लगा। रूटीन simple था जिस टाइम उसे bore लगता था तब वो निचे ऑफिस की कैंटीन जाता। जहां वो डोनट्स खरीदता और फिर अपने कलीग्स के साथ बात करते हुए उसे खाता और रिवॉर्ड उसको उन डोनट को खाने का टेस्ट और मजा ये इससे मिलता है।

ये सब पता चलने के बाद । दूसरे दिन तीन से साढ़े तीन बजे जब उसे डोनट खाने का मन करने लगा । तो वो निचे कैंटीन में गया । पर फिर वहां उसने डोनट खरीदने के बजाय एक चॉकलेट खरीदी जिसके बाद फिर उसने अपने कलीग से बात करते करते उसे खाया और फिर वापस अपने काम पर चला गया ।

फिर दूसरे दिन उसका फिर मन किया । तब वो कैंटीन गया लेकिन इस बार उसने कुछ भी नहीं खरीदा और बस अपने दोस्तों से 15 20 मिनट बातें की और वापस आ गया । ये उसने बहुत दिन तक फॉलो किया और करता रहा। उसने अपने इस routine को ख़तम करने की कोशिश नही की बल्कि उसने बस अपने रूटीन और रिवॉर्ड को एक दूसरे रूटीन और रिवॉर्ड से बदल दिया। जिसकी वजह से धीरे धीरे उसकी वो हैबिट खत्म हो गई ।

इसी तरह यही दो स्टेप्स को फॉलो करके आप अपनी किसी भी हैबिट को खतम कर सकते हो । पहला स्टेप ये है कि आप अपने हैबिट के तीनों स्टेप ट्रिगर रूटीन और रिवॉर्ड को समझो । और फिर दूसरा स्टेप में अपने रूटीन और रिवॉर्ड को किसी दूसरे रूटीन और रिवॉर्ड से रिप्लेस कर दो । थोड़ा मुश्किल जरूर होगा पर यही सबसे सिम्पल और बेस्ट तरीका है अपने हैबिट को बदलने का ये।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »